मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूँ

मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूँ,
क्षितिज पार की नील झंकार बन कर,
मैं सतरंग सरगम, लिए आ रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूं।।

सुनो मीत मेरे के मैं गीत ज्वाला,
तुम्हारे लिए हूँ मैं स्वर का उजाला,
मैं लौ बन के जल-जल जिए जा रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूं।।

मैं उषा के मन की मधुर साध पहली,
मैं संध्या के नैनों में सुधि हो सुनहली,
सुगम कर अगम को मैं दोहरा रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूं।।

मैं स्वरताल लय हूँ लवलीन सरिता,
मैं अनचिन्ह अनजाने कवि की हूँ कविता,
जो तुम हो वो मैं हूँ, ये बतला रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूं।।

मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूँ,
क्षितिज पार की नील झंकार बन कर,
मैं सतरंग सरगम, लिए आ रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूँ,
मैं केवल तुम्हारे लिए गा रही हूं।।

Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon
Kshitij Paar Ki Neel Jhankar Bankar
Main Satrang Sargam Liye Aa Rahi Hoon
Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon

Suno Meet Mere Main Geet Jwala
Tumhare Liye Hu Swar Ka Ujala
Main Lo Banke Jal Jal Jiye Ja Rahi Hoon
Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon

#Singer – Lata Mangeshkar

Main Usha Ke Man Ki Madhur Saadh Pahli
Main Sandhya Ke Naino Mein Sudh Hu Sunahari
Sugam Kar Agam Ko Main Dohara Rahi Hoon
Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon

Main Swar Taal Laye Ki Hoon Lavleen Sarita
Main Ancheenh Anjane Kavi Ki Hoon Kavita
Jo Tum Ho Vo Main Hu Vo Batla Rahi Hoon
Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon

Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon
Kshitij Paar Ki Neel Jhankar Bankar
Main Satrang Sargam Liye Aa Rahi Hoon
Main Kewal Tumhare Liye Ga Rahi Hoon

Leave a Reply