मैया कन्हैया छेड़े है मुझको

पनघट पे मुझको छेड़े फोड़े वो मटकी मेरे,
क्या बताऊ मैं उसकी करतूत तुझको
मैया कन्हैया छेड़े है मुझको।।

करके परेशान मुझको लेता वो आनंद है
उसकी ये आदात न मुझ्को पसंद है
जाने दे न घर से बाहर तू उसको
मैया कन्हैया छेड़े है मुझको।।

मुझको को बुलाये काली खुद वो है काला
छलिया है मैया तेरा नंद लाल
तेरे इलावा मैं बताऊ किस को
मैया कन्हैया छेड़े है मुझको।।

Panaghat Pe Mujhko Chhede Phode Vo Mataki Mere
Kya Batau Main Usaki Karatut Tujhako
Ho Maiya Kanhiyan Chhede Hai Mujhako

Kar Ke Pareshan Mujhako Vo Leta Anand Hai
Usaki Ye Adat Na Mujhako Pasand Hai
Are Jane De Na Ghar Se Bahar Tu Usako
Ho Maiya Kanhiyan Chhede Hai Mujhako

Mujhko Bulaye Kali Khud Hai Vo Kala
Chhaliyan Hai Maiya Tera Nand Lala
Tere Alava Main Duhkh Batau Main Kisako
Ho Maiya Kanhiyan Chhede Hai Mujhako

Leave a Reply