मोहन तेरा नाम मैं रटता सुबह शाम मैं

मोहन तेरा नाम मैं रटता सुबह शाम मैं
नाम तेरा लेकर शुरू करता हर काम मैं
तेरी बंदगी मेरी ज़िन्दगी आगाज़ तुम्ही अंजाम मेरा
मेरी आसो में मेरी साँसों में मुरली वाले बस नाम तेरा

माथे लगाई मैंने चरणों की धुल है
काँटों को चुनकर तुमने दिए मुझे फूल हैं
मोहन तेरा नाम मैं रटता सुबह शाम मैं
नाम तेरा लेकर शुरू करता हर काम मैं

राहें आसान हुई मंज़िल भी पास है
खुशियां ही खुशियां अब तो मन ना उदास है
मोहन तेरा नाम मैं रटता सुबह शाम मैं
नाम तेरा लेकर शुरू करता हर काम मैं
तेरी बंदगी मेरी ज़िन्दगी आगाज़ तुम्ही अंजाम मेरा
मेरी आसो में मेरी साँसों में मुरली वाले बस नाम तेरा

जीवन में मेरे अब तो कष्ट ना कलेश है
तेरे सहारे अब तो फौजी सुरेश है
कान्हा तेरा नाम मैं रटता सुबह शाम मैं
नाम तेरा लेकर शुरू करता हर काम मैं
तेरी बंदगी मेरी ज़िन्दगी आगाज़ तुम्ही अंजाम मेरा
मेरी आसो में मेरी साँसों में मुरली वाले बस नाम तेरा

This Post Has One Comment

Leave a Reply