म्हारे मनडा रो बोले मोर बोले जय बाबोसा

म्हारे मनडा रो……म्हारे मनडा रो बोले मोर
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा
जयकारा है चहु ओर , जय श्री बाबोसा
है दुख भंजन , छगनी नन्दन , धाम है चुरू नगरियाँ ,
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा ।।

कलयुग के हो देव तुम्ही , हम करते भाव से वंदन है,
कलयुग के हो देव तुम्ही , हम करते भाव से वंदन है.
तेरे दर्शन से सुख चैन मिले , मेरी सांसो में तेरा सुमिरन है,
तेरे नाम पे लिख दी हमने , अब ये सारी उमरियाँ,
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा ।।

जो तेरी शरण मे आता है , वो बिन बोले सब पाता है.
जो तेरी शरण मे आता है , वो बिन बोले सब पाता है
तुमसे मिलकर ऐसा लगता , मानो जन्मोजनम का नाता है,
पार करे भक्तो की नैया , बनकर तू ही खिवैया
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा ।।

देखके तेरे चमत्कार , ये दुनिया हुई दीवानी है
दिलबर तेरी महिमा को में, कैसे कहु जुबानी है
वैष्णवी चाहे छुटे जमाना , छूटे ना तेरी दुवरिया
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा
म्हारे मनडा रो बोले मोर , बोले जय बाबोसा ।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply