यहाँ हर कोई है दीवाना मेरे बांके बिहारी का

यहाँ हर कोई है दीवाना
मेरे बांके बिहारी का
मेरे बांके बिहारी का,
मेरे कुञ्ज बिहारी का
मैं भी हो गया मस्ताना
मेरे बांके बिहारी का

पाग बांधे यह जरतारी
बांके की अँखियाँ कजरारी
वो मीठा मीठा मुस्काना
मेरे मोहनी बिहारी का
जहां हर कोई है दीवाना

यहां बहे प्रेम की धारा
वृन्दावन भक्ति का द्वारा
लूट रहा प्रेम खजाना
राधा नित्त बिहारी का
जहां हर कोई है दीवाना

कभी दर्शन वो दिखलावे
कभी परदे में छिप जावे
हाय कैसा यह शर्माना
राधा रसिक बिहारी का
जहां हर कोई है दीवाना

देख पागल हुआ तुमको
यह कहना है हमे सबको
यह ‘चित्र विचित्र’ की जोड़ी है
नजराना रसिक बिहारी का
जहां हर कोई है दीवाना

Jai Shri Krishna Jai Shri Krishna

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Mere Banke Bihari Ka
Mere Kunj Bihari Ka
Mai Bhi Ho Gaya Mastana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Paag Bandhe Ye Jartari
Banke Ki Ankhiya Kajarari
Vo Meetha Meetha Muskana
Mere Mohan Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Yaha Bahe Prem Ki Dhara
Vrindavan Bhakti Ka Dwara
Ho Lut Raha Prem Khajana
Radha Nitya Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Kabhi Darshan Vo Dikhlave
Kabhi Parde Mein Chhip Jave
Haye Kaisa Ye Sharmana
Radha Rasik Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Dekh Pagal Hua Tumko
Ye Kahana Hai Hame Sabko
Ye Kahana Hai Hame Sabko

Ye Chitra Vichtra Ki Jodi
Nazrana Rasik Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Mere Banke Bihari Ka
Mere Kunj Bihari Ka
Mai Bhi Ho Gaya Mastana
Ho Mere Banke Bihari Ka

Yaha Har Koi Hai Deewana
Ho Mere Banke Bihari Ka

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply