युगों युगों से यही हमारी बनी हुई परिपाटी है

युगों युगों से यही हमारी, बनी हुई परिपाटी है,
खून दिया है मगर नहीं दी, कभी देश की माटी है

युगों युगों से यही हमारी..

इस धरती ने जन्म दिया है, यही पुनिता माता
है एक प्राण दो देह सरीखा, इससे अपना नाता है

यह पावन माटी ललाट की ललित ललाम लालटी है
खून दिया है मगर नहीं दी कभी देश की माटी है

इसी भूमि पुत्री के कारण भस्म हुई लंका सारी
सुई नोक भर भू के पीछे हुआ महाभारत भारी

पानी सा बह उठा लहू फिर पानीपत के प्रांगड़ मे
बिछा दिए रिपुओ के शव थे उसी तारायण के रण मे

प्रष्ट बाचती इतिहासो के अब भी हल्दी घाटी है
खून दिया मगर नहीं दी कभी देश की माटी है

सिख मराठा राजपूत क्या बंगाली क्या मद्रासी
इसी मंत्र का जाप कर रहे युग युग से भारत वासी

बुन्देले अब भी दोहराते यही मंत्र है झाँसी में
देंगे प्राण न देंगे माटी गूँज रहा है नस-नस मे

शीश चढ़ाए काट गर्द ने या अरी गर्दन काटी है
खून दिया है मगर नहीं दी कभी देश की माटी है

इस धरती के कण कण पर चित्र खिचा कुर्बानी का
एक एक कण छन्द बोलता चढ़ी शहीद जवानी का

ये इसके कण नहीं अरे ज्वालामुखियों की लपटे है
किया किसी ने दावा इन पर ये दावा शे झपटे हैं

इन्हें चाटने बढ़ा उसी ने धूल धरा की चाटी है
खून दिया मगर नहीं दी कभी देश की माटी है

Yugo Yugo Se Yahi Humari
Bani Hue Paripati Hai

Singer- Prakash Mali

Yugo Yugo Se Yahi Humari
Bani Hue Paripati Hai

Khoon Diya Hai Magar Nahi Dee
Kabhi Desh Ki Maati Hai
Yugo Yugo Se Yahi Humari

Iss Dharti Ne Janam Diya Hai
Yahi Punita Mata Hai

Ek Pran Bole Hai Sareekha
Iss Se Nata Hai

Yah Darti Hai Parvati Maa
Yahi Rashtra Shiv Shankar Hai

Dig Mandal Shaapo Ka Kundal
Kan Kan Rundra Bhayankar Hai

Yah Paawan Maati Lalat Ki
Lalit Lala May Laal Hai

Khoon Diya Hai Magar Nahi Dee
Kabhi Desh Ki Maati Hai
Yugo Yugo Se Yahi Humari

Issi Bhoomi Ke Karan
Bhasma Hue Lanka Saari

Suyi Nok Bhar Bhoo Ke Peechhe
Hua Mahabharat Bhaari

Paani Sa Bah Utha Lahoo Tha
Paani Pat Ke Prangan Mein
Beechha Diya Ripu Gan Ke Shav The
Ussi Tarah Ran Mein

Prasth Bachate Itihaso Ke
Ab Bhi Haldi Ghati Hai

Khoon Diya Hai Magar Nahi Dee
Kabhi Desh Ki Maati Hai
Yugo Yugo Se Yahi Humari

Sikh Marathe Rajput Kya
Bangali Kya Madrasi
Iss Mantra Ka Jaap Kar Rahe
Yug Yug Se Bharat Vashi

Bundele Ab Bhi Dohara Rahe
Yahi Matra Hai Jhanshi Mein
Denge Pran Naa Denge Maati

Sheesh Chadaya Kaat Gardane
Yaa Ari Gardan Kaati Hai

Khoon Diya Hai Magar Nahi Dee
Kabhi Desh Ki Maati Hai
Yugo Yugo Se Yahi Humari

Leave a Reply