रंग डार गयो री मोपे साँवरा

रंग डार गयो री मोपे साँवरा,
होरी है होरी है होरी है
रंग डार गयो री मोपे सांवरा,
मर गयी लाज़न हे री मेरी बीर,
मैं का करुं सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

मारी तान के ऐसी मोपे, पिचकारी,
मारी तान के ऐसी मोपैं, पिचकारी,
मेरो भीज्यों तन को चीर,
मैं का करूँ सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

रंग डारी चुनर कोरी रै,
रंग डारी चुनर कोरी रे,
मेरे भर गयो नैनन अबीर,
मैं का करूँ सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

मेरो पीछा ना छोड़े ये होरी में,
मेरो पीछा ना छोड़े ये होली में,
एक नन्द गाँव को अहीर,
मैं का करूँ सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

पागल के चित्र विचित्र संग,
पागल के चित्र विचित्र संग,
होरी भई यमुना के तीर,
मैं का करूँ सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

रंग डार गयो री मोपे सांवरा,
मर गयी लाज़न हे री मेरी बीर,
मैं का करु सजनी होरी में,
रंग डार गयो री मोपे सांवरा।।

Leave a Reply