राधा नाम की लगाई फुलवारी के पत्ता पत्ता श्याम बोलता

राधा नाम की लगाई फुलवारी,
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता,
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता ॥

कली कली मैं महक उसी की,
हर पक्षी मैं चहक उसी की
नाचे मोरे कोकें, कोयलिया कारी,
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता ॥

राधा नाम का खिल गया उपवन,
महक उठा सारा वृन्दावन ।
गूंजे गली गली में शोर भारी,
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता ॥

प्रेम के जल से सिंची ये बगिया,
महके ग्वाले महकीं सखिया
सब रसिकन को लागी हैं प्यारी,
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता ॥

‘चित्र विचित्र’ छाई हरियाली,
फिरत राधा संग बनवारी
ऐसी पागल की बगिया है न्यारी
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता ॥

Radha Naam Ki Lagayi Phulvari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Radha Naam Ki Lagayi Phulvari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Ke Patta Patta Shyam Bolta
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Kali Kali Main Mehak Ussi Ki
Har Pakshi Main Chahak Ussi Ki
Naache More Koke Koyaliya Kaari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Radha Naam Ka Khil Gaya Upvan
Mehak Utha Sara Vrindavan
Goonje Gali Gali Mein Shor Bhari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Prem Ke Jal Se Seenchi Ye Bagiya
Mehake Gwale Mehaki Sakhiya
Sab Rasikan Ko Laagi Hai Pyari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

Chitra Vichitra Chhayi Hariyali
Firat Radha Sang Banwari
Aisi Pagal Ki Bagiya Hai Nyari
Ke Patta Patta Shyam Bolta

This Post Has One Comment

Leave a Reply