राधे राधे जो भी नाम रटे उसे श्याम मिल जाये

राधे राधे जो भी नाम रटे उसे श्याम मिल जाये,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये,
श्याम मिल जाये घनश्याम मिल जाए,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये।।

डाल डाल पर राधे राधे,
हेरि पात पात राधे राधे,
कण कण में राधे नाम बसे,
तेरो नाम रटे उससे श्याम मिल जाये,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये।।

राधे राधे बोलते जाना,
तेरो कौड़ी मोल लगे ना,
भव में हो नैया तो पार लगे,
तेरो नाम रटे उससे श्याम मिल जाये,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये।।

जो राधे को नाम ना हो तो
तो रस राज बिहारी रोतो,
प्रेम पदार्थ उसको मिले ,
तेरो नाम रटे उससे श्याम मिल जाये,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये।।

ये ब्रज की है अजब कहानी,
यहाँ घर घर में बसे राधे रानी,
चन्दन वेद पुराण कहे,
तेरो नाम रटे उससे श्याम मिल जाये,
राधे राधे जो भी नाम भजे तेरो नाम रटे,
उसे श्याम मिल जाये।।

Leave a Reply