राम नाम है पारस जग में लिरिक्सram naam hai paras jag me

राम नाम है पारस जग में मिलता है बिन दाम
कंचन करले काया अपनी बोल सुबह और शाम
जय जय राम जय जय राम
जय जय राम जय जय राम

राम भजन कर राम मनन कर
मन को मंदिर करले तू
राम कृपा से पायेगा तू जनम जनम आराम
जय जय राम जय जय राम
जय जय राम जय जय राम

रग रग कण कण रोम रोम में
राम रमले रे बन्दे
उस ही राम को पाया जिसने
भक्ति की निष्काम
जय जय राम जय जय राम
जय जय राम जय जय राम

गाये जा निर्बाध तू काफिर
राम नाम की ये गाथा
दुनिया के लाखों धंधो से
बढ़ कर है ये काम
जय जय राम जय जय राम
जय जय राम जय जय राम

raam naam hai paaras jag mein milata hai bin daam
kanchan karale kaaya apanee bol subah aur shaam
jay jay raam jay jay raam
jay jay raam jay jay raam

raam bhajan kar raam manan kar
man ko mandir karale too
raam krpa se paayega too janam janam aaraam
jay jay raam jay jay raam
jay jay raam jay jay raam

rag rag kan kan rom rom mein
raam ramale re bande
us hee raam ko paaya jisane
bhakti kee nishkaam
jay jay raam jay jay raam
jay jay raam jay jay raam

gaaye ja nirbaadh too kaaphir
raam naam kee ye gaatha
duniya ke laakhon dhandho se
badh kar hai ye kaam
jay jay raam jay jay raam
jay jay raam jay jay raam

Leave a Reply