लुटा दिया भण्डार खाटू वाले ने

लुटा दिया भण्डार खाटू वाले ने,
कर दिया मालामाल खाटू वाले ने,
लूटा दिया भण्डार खाटू वाले ने।।

जैसी जो भावना लाया वैसा ही मुँह फल पाया,
नहीं खाली उसे लौटाया वो मन ही मन हरषाया,
कर दियां उसे निहाल खाटू वाले ने,
कर दिया मालामाल खाटू वाले ने।।

जो लगन लगाया सच्ची है उसकी नाव न अटकी,
वेडे को पार लगाया नहीं देर करि पल भर की,
मिटा दिया जान जाल खाटू वाले ने,
कर दिया मालामाल खाटू वाले ने।।

चरणों की किया जो सेवा वो पाया मिश्री मेवा,
जिसने है मंगा बीटा वो चाँद सा टुकड़ा पाया,
कर दिया फिर खुश हाल खाटूवाले ने
कर दिया मालामाल खाटू वाले ने।।

जिसने शृंगार सजाया वो श्याम का दर्शन पाया,
वो मन ही मन हरश्या नैनो में रूप समाया,
दिया है जन्म सुधार खाटू वाले ने,
कर दिया मालामाल खाटू वाले ने।।

Luta Diya Bhandar Sherawali Ne
Kar Diya Mala Maal Sherawali Ne

Jaisi Jo Bhavana Laya Vaisa Hi Vo Phal Paya
Nahi Khali Use Lutaya Vo Man Hi Man Harshaya
Kar Diyan Usko Nihaal Sherawali Ne
Kar Diya Mala Maal Sherawali Ne

Jo Lagan Lagaye Sachi Usaki Nav Na Ataki
Bhede Ko Par Lagaye Nahi Der Kare Vo Pal Ki
Are Mita Diya Janjal Sherawali Ne
Kar Diya Mala Maal Sherawali Ne

Jis Ne Shingar Sajaya Vo Man Ka Darshan Paya
Vo Man Hi Man Harashaya Naino Mein Rup Sajaya
Kar Diya Hai Janm Sudhar Sherawali Ne
Kar Diya Mala Maal Sherawali Ne

This Post Has One Comment

Leave a Reply