वंदे मातरम पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है

पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है
दुश्मन की औकात नहीं ये अपनों की गद्दारी है
वंदे मातरम वंदे मातरम वंदे मातरम
पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है

दुश्मन घर में बैठे है
तुम कोसते रहो पड़ोसी को

जो छुरी बगल में रखते है
तुम मार दो ना उस दोषी को

इस दोषी के हमले में
अपनो का काम नही होता

पुलवामा में उन वीरो का
ये अंजाम नही होता

अपनो की गद्दारी का जो होता रूप नही
कैसे पता चला दुश्मन को
ये गाड़ी बुलेट प्रूफ नही

पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है
दुश्मन की औकात नहीं ये अपनों की गद्दारी है
तुम्हें शहादत के बदले में सिर्फ सियासत प्यारी है
सैनिक की लाशों पर भी वोटों की चाहत भारी हैं
दिल्ली से जम्मू तक में सरकार बताओ किसकी है
जो बस से टकराई थी वह कार बताओ किसकी है
अपनों की गद्दारी का होता इसमे रूप नहीं
कैसे पता चला दुश्मन को यह गाड़ी बुलेटप्रूफ नहीं

पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है
दुश्मन की औकात नहीं ये अपनों की गद्दारी है
वंदे मातरम वंदे मातरम वंदे मातरम
पुलवामा में वीरों ने जो जान देश पर वारी है

Vande Mataram Vande Mataram
Pulwama Mein Veero Ne
Jo Jaan Desh Pe Vaari Hai
Dushman Ki Aukat Nahi
Ye Apno Ki Gagaddari Hai

Vande Mataram Vande Mataram
Pulwama Mein Veero Ne
Jo Jaan Desh Pe Vaari Hai
Dushman Ki Aukat Nahi
Ye Apno Ki Gagaddari Hai

Dushman Ghar Mein Baithe Hai
Tum Kosate Raho Padosi Ko

Jo Chhuri Bagal Mein Rakhte Hai
Tum Maardo Naa Uss Doshi Ko

Iss Doshi Ke Hamle Mein
Apno Ka Kaam Nahi Hota

Pulwama Mein Un Veero Ka
Ye Anjaam Nahi Hota

Apno Ki Gaddari Ka Jo Hota Roop Nahi
Kaise Pata Chala Dushman Ko
Ye Gaadi Bullet Proof Nahi

Un Veero Ko Gaddari Ka
Ahsaas Jara Hota
Pulwama Mein Ek Bhi Sainik
Naa Lachar Mara Hota

Kaun Hai Jaichand Hai Apne Desh Mein
Kab Ahsaas Tumhe Hoga

Ye Desh Khatam Ho Jayega
Kya Tab Aabhas Tumhe Hoga

Kya Bus Gareeb Maa Baap Ne
Raksha Ka Beeda Uthaya Hai

Ek Bhi Neta Ka Beta
Kyo Saheed Nahi Ho Paya Hai

Jo Saheed Ke Ghar

Agar Jara Dum Rakhte Ho
Tum Tod Do Dhara 370 Ko

Kabhi Milo Uss Baap Se
Jisne Fauj Mein Beta Feja Hai

Goli Ka Samadhan Nai To Kya Hai
Kuchh Batalo Tum

Behroopiye Netaji Kabhi
Asali Roop Dikhao Tum

Jab Desh Mein Matam Pasra Hai
Tum Vafa Nibhane Jaate Ho

Kya Kashmir Unhe De De
Tum Unki Dawat Khate Ho

Aajad Singh Aajad Nahi
Aajadi Ka Dum Bharta Hai

Ye Bebas Dil Ro Padta Hai
Jab Desh ka Beta Marta Hai

Vande Mataram Vande Mataram
Pulwama Mein Veero Ne
Jo Jaan Desh Pe Vaari Hai
Dushman Ki Aukat Nahi
Ye Apno Ki Gagaddari Hai

This Post Has One Comment

Leave a Reply