वन्दे गणपति विघ्नविनाशक हे लम्बोदर गजानना

गणपति कीजिये पूरन काज,
प्रथम प्रणाम तुम्हे प्रथम प्रणाम,
गणपति कीजिये पूरन काज,
प्रथम प्रणाम तुम्हे प्रथम प्रणाम।।

वन्दे गणपति विघ्नविनाशक,
हे लम्बोदर गजानना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक।।

जो ध्यावे वंचित फल पावे,
यज्ञ देव तुम्हे वन्दना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक,
हे लम्बोदर गजानना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक।।

रिद्धि सीधी के दाता तुम हो,
हे शशि शेखर नंदना।।

वन्दे गणपति विघ्नविनाशक,
हे लम्बोदर गजानना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक।।

काम क्रोध मध् लोभ आदि हरो,
नीर विकार निर्मल महा,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक,
हे लम्बोदर गजानना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक।।

रिद्धि सीधी के दाता तुम हो,
हे शशि शेखर नंदना।।

वन्दे गणपति विघ्नविनाशक,
हे लम्बोदर गजानना,
वन्दे गणपति विघ्नविनाशक।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply