वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो

वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो
मैं हु शरण तिहारी अपनी शरण लगा लो
वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो।।

कोई नही है मेरा इक आसरा तुम्हारा
उसे मिल गई है मंजिल जी को दिया सहारा,
मजधार मेरी नैया भव पार तुम उतारो
वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो।।

कोई न जग में दूजा तुसा हे श्यामा प्यारी,
हे करुना मई किशोरी तेरी प्रीत है निराली,
आँचल में अपने श्यामा इक बार तो बिठा लो
वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो।।

हर पल गिरा रहा मैं इस झूठे जग में श्यामा
तू ही मेरी है मंजिल तू ही मेरा ठिकाना
करके नजर किरपा की चरणों से तुम लगालो
वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो।।

उपकार इतना करना कर दो मुझपे हे श्यामा प्यारी,
कस के पकड़ लो बहियाँ छुटे न फिर हमारी,
देखू युगल छवि नित मुझे वृंदावन बसालो
वृषभान की दुलारी मेरी और भी निहारो।।

Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo
Main Hu Sharan Tihari Apani Sharan Laga Lo
Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo

Koi Nahi Hai Mera Ek Asra Tumhara
Use Mil Gai Hai Manjil Ji Ko Diya Sahara
Majadhar Meri Naiya Bhav Par Tum Utaro
Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo

Koi Na Jag Mein Duja Tusa He Shyama Pyari
He Karuna Mai Kishori Teri Prit Hai Nirali
Anchal Mein Apane Shyama Ik Bar To Bitha Lo
Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo

Har Pal Gira Raha Main Is Jhuthe Jag Mein Shyama
Tu Hi Meri Hai Manjil Tu Hi Mera Thikana
Karake Najar Kirapa Ki Charanon Se Tum Laga Lo
Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo

Upkar Itana Karna Kar Do Mujhpe He Shyama Pyari
Kas Ke Pakad Lo Bahiyan Chhute Na Phir Hamari
Dekhu Yugal Chhavi Nit Mujhe Vrndavan Vasa Lo
Vrishbhan Ki Dulari Meri Aur Bhi Niharo

Leave a Reply