वो तो भूता का से थानेदार बाला जी

कष्ट मिटावे बाला भुत भजावे,
राह भगता ने भव से निकाल बाला जी
वो तो भूता का से थानेदार बाला जी।।

जाओ मेहंदीपुर जाओ जाके अर्ज लगाओ
ओपरी पराई थारी मिट बाला जी
जो तो भगता ने करे मालामाल बाला जी।।

बाँध के हाथ पैर कूटे से भूता ने,
भाग ते न भूत भगतो खाए बिना जूता ने
बाला जी सरदार म्हारा करे गा जुगाड़
सारे भूता ने कैद में डाले बाला जी
वो तो भूता का से थानेदार बाला जी।।

सारे भगता के बाबा बेड़े बने लावे से
दुःख हारे भगता ने गले से लगावे से
यु तो करते कमाल बाबा राखा सबका ख्याल
नैया भगता की पार लगावे बाला जी
जो तो भगता ने करे मालामाल बाला जी।।

सतावे जो भुत तने बाला जी जाइयो रे
बाला जी के चरणों में अर्जी लगाइयो रे
इक बाला का सहारा पार करदे बेडा थारा
जाके सवा मणि भेट चड़ाए बाला जी
वो तो भूता का से थानेदार बाला जी।।

चेहल दीवाने कभी चक्र में पड़ीयो न
साने और ढोंगियों में विश्वाश करियो न
म्हारा बाबा मत वाला भगता का रखवाला
सारे भूत से पानी भरावे बाला जी
जो तो भगता ने करे माला माल बाला जी।।

Leave a Reply