वो तो लाल लंगोटे वाला है वो तो अंजनी का लाला है

वो तो लाल लंगोटे वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

वो तो संकट हरने वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

मंगल भवन अमंगल हारी
मंगल भवन अमंगल हारी
द्रबहु सुदसरथ अजर बिहारी
द्रबहु सुदसरथ अजर बिहारी

वो तो मंगल करने वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

रघुकुल रीत सदा चली आयी
प्राण जाए पर वचन ना जाई
रघुकुल रीत सदा चली आयी
प्राण जाए पर वचन ना जाई।।

वो तो वचन निभभाने वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

संकट से हनुमान छुडावे
मन क्रम वचन ध्यान जो लावे
वो तो संकट हरने वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

वो तो लाल लंगोटे वाला है
वो तो अंजनी का लाला है।।

Leave a Reply