शुक्र करां वाहे गुरु तेरा शुक्र करां

अल्लाह वी राम यीशु वाहेगुरु वी तू
एक कुदरत एक कायनात विच तू ही तू बस तू

सब कुछ बिन मांग्या मिल जांदा
तेरी शरण जो आन खड़ा
शुक्र करां शुक्र करां
शुक्र करां वाहे गुरु तेरा शुक्र करां

तेरी घर विच थोड़ ना कोई
जो मांग्या सो पाया
तेरी ही सब कृपा है
जो जग ते नाम कामया
जग ते नाम कमाया

तेरे पांडे रहकर के
लिया है सुकून बड़ा

शुक्र करां शुक्र करां शुक्र करां
शुक्र करां वाहे गुरु तेरा शुक्र करां

की करा इस मुख जो दाता तेरी ये वडियाई
तेरे प्रकाश दी ज्योति कण कण विच समायी

तेरी अर्पिता के गूंजे सच्चा तेरा नाम
शुक्र करां शुक्र करां शुक्र करां
शुक्र करां वाहे गुरु तेरा शुक्र करां

अल्लाह वी राम यीशु वाहेगुरु वी तू
एक कुदरत एक कायनात विच तू ही तू बस तू

This Post Has One Comment

  1. Pingback: सतिगुरु नानकु प्रगटिआ – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply