श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरी श्यामाजू प्यारी है

छवि इनकी निराली है नैन इनके है कजरारे
जुल्फ है कारी मतवारी नजर से तीर ये मारे

शरण में जो भी आ जाये चढ़े उसको खुमारी है
संग बांके बिहारी के मेरी श्यामाजू प्यारी है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरी श्यामाजू प्यारी है
राधे राधे राधे राधे बोल

नजर इसकी बना देगी तुझे पागल या दीवाना
झटक दी जुल्फ अगर इसने बनादे हमको मस्ताना
जिगर के पार करदेता नजर से ये कटारी है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरी श्यामाजू प्यारी है

कटारी जिसको लग जाए उसे अपना बनता है
जो आजाता है इसके दर साथ हरपल निभाता है
कृपा जिसपे ये करदेता तो उसकी दुनिया साड़ी है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरे श्यामाजू प्यारी है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरे श्यामाजू प्यारी है

रविंदर ने किये दर्शन ये जबसे संग रहता है
श्री राधे नाम का दरिया जुबान से हरदम बेहटा है
मेरी बिगड़ी हुए हालत इसी ने ही सभली है

श्री हरिदास के प्यारे मेरे बांके बिहारी है
संग बांके बिहारी के मेरे श्यामाजू प्यारी है

Leave a Reply