सच्चा है माँ का दरबार मेरी मैया का जवाब नही

सच्चा है माँ का दरबार मेरी मैया का जवाब नही
आये नवराते धूम मचा लो
सब मिल कर जय कार लगा लो
सच्चा है माँ का दरबार मेरी मैया का जवाब नही

चांदी के सिंघासन उपर मैया को बिठाओ
जीन भवानी कामिल कर के
सब कोइ लाड लड़ाओ
छम छम भाजे प्यालियाँ
मैया आई मेरे आंगनिया
सिंह पे होके सवार मेरी मैया का जवाब नही

कर सोल्हा शिंगार भवानी जीन धाम से आई
नवरातो में अपने संग में माल खजाना लाइ
हर्षनाथ की बेहना प्यारी सब की माँ करती रखवाली
करती माँ प्यार दुलार मेरी मैया का जवाब नही

करोना रूपी रक्त बीज को मैया मार भगायो
अपने भगतो की नैया को भव से पार लगाओ
कष्ट मिटाने आई भवारावालीशान है
माँ की बड़ी ही निराली
करती माँ प्यार दुलार
मेरी मैया का जवाब नही

This Post Has One Comment

  1. Pingback: प्रतापगढ़ में बा चंडी पुर धाम ऐ भैया – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply