साँवरे बिहारी जय हो तुम्हारी

जिंदगी सवार दी, तुमने हमारी,
साँवरे बिहारी, जय हो तुम्हारी।।

तुमसे मिलने से पहले साँवरे, ना कोई मंज़िल थी,
बड़ी मुश्किल में थी, ज़िंदगी हमारी
जैसे कोई नाव बिन मांझी, चली जाती थी,
डगमगाती थी, जिंदगी हमारी
थाम पतवार बने, तुम श्याम मांझी,
साँवरे बिहारी, जय हो तुम्हारी।।

गम के अंधेरों ने श्याम मुझको, बहुत डराया था,
बहुत सताया था, याद है मुझको
बेसुरे थे गीत ज़िंदगी के, अज़ब तराना था,
फिर भी गाना था, याद है मुझको
मिल गया संगीत मुझे, मिली धुन प्यारी,
साँवरे बिहारी, जय हो तुम्हारी।।

देखा एक ख्वाब श्याम मैंने, गीत गाऊँ मैं,
तुझको रिझाऊँ मैं, हो रहा जो पूरा
क्यों ना करे नाज़ आज तुम पर, कौन तुझ सा है,
दिल यह कहता ,है कोई नहीं दूजा
सुन ले ना गीत मेरे, बाँके बिहारी,
साँवरे बिहारी, जय हो तुम्हारी।।

किस्मत से मेल हुआ अपना, दिल के फूल खिले,
विछड़े मीत मिले, साँवरे बिहारी l
हे दयालु दिल की है तमन्ना, साथ छूटे ना
किस्मत रूठे ना, साँवरे बिहारी l
नंदू निभाना यूँ ही, रिश्ता मुरारी,
साँवरे बिहारी, जय हो तुम्हारी।।

Leave a Reply