सांवरिया आपा होली तो खेला रे भजन लिरिक्स

सांवरिया आपा होली तो खेला रे,
फागणियो आय गयो,
साँवरिया गिरधारी।।

सांवरिया थाने रंग में रंग देस्याँ जी,
सांवरिया थाने रंग में रंग देस्याँ जी,
थारे भर भर कर मारा म्हे,
रंग की पिचकारी।।

ढपली पर थाने नाच नचास्याँ जी,
ढपली पर थाने नाच नचास्याँ जी,
पग घुँघुरु बांध देवा,
सांवरिया गिरधारी।।

मन चाही थाने घूमर घुमास्या जी,
मन चाही थाने घूमर घुमास्या जी,
‘बनवारी’ बजवास्यां,
मीठी सी बाँसुरी।।

सांवरिया आपा होली तो खेला रे,
फागणियो आय गयो,
साँवरिया गिरधारी।।

This Post Has One Comment

  1. Pingback: यह मस्त महीना फागुन का श्रृंगार बना घर आंगन का लिरिक्स – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply