सांवरी सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया

सांवरी सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया
दिल दीवना हो गया मेरा दिल दीवना हो गया
सांवरी सूरत पे मोहन……………….

एक तो तेरे नैन प्यारे दूसरा कजरा लगा
तीसरा तिरछी नज़र पे दिल दीवाना हो गया
दिल दीवना हो गया
सांवरी सूरत पे मोहन……………….

एक तो तेरे होंठ नाज़ुक दूसरा लाली लगी
तीसरा तेरा मुस्कुराना दिल दीवना हो गया
सांवरी सूरत पे मोहन……………….

एक तो तेरे हाथ कोमल दूसरा मेहँदी लगी
तीसरा बंसी बजाना दिल दीवना हो गया
सांवरी सूरत पे मोहन……………….

Leave a Reply