सारे संकट को हरने गणेश निकले

देखो ब्रम्हा और विष्णु महेश निकले ,
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

देखो ब्रम्हा की महिमा निराली है,
उनके संग मे सरस्वती विराजी हैं ,
उनके मुख से चारो वेद निकले,
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

देखो विष्णु जी की महिमा निराली है ,
उनके संग में लक्ष्मी विराजी हैं ,
उनके हाथों से धन के कुबेर निकले,
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

देखो भोले की महिमा निराली है ,
उनके संग में पार्वती विराजी हैं ,
उनकी जटा से गंगा की धार निकले,
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

देखो रामजी की महिमा निराली है ,
उनके संग मे सीता जी विराजी हैं ,
इनके बाणो से रावण के प्राण निकले,
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

देखो कृष्ण जी की महिमा निराली है ,
उनके संग में राधा जी प्यारी हैं ,
इनके मुख से गीता का ज्ञान निकले
सारे संकट को हरने गणेश निकले।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply