साहनु भी चढ़ा दे रंग नाम वाला दातिये

सारेया दे दिला दी उमंग एहो दातिये,
करने दीदार तेरे अज असी दतिये
साहनु भी चढ़ा दे रंग नाम वाला दातिये।।

उचा ते सुचा तेरा दर आंबे रानिये
सब दी मुराद पूरी करदी भवानी ऐ,
भक्ता दे रेहन सदा अंग संग दतिये
साहनु भी चढ़ा दे रंग नाम वाला दातिये।।

भगत भी तेरे मैया ताड़ियाँ बजौंदे ने
रल मिल सारे तेरा नाम ध्यौंदे ने
नच्दे ने दर ते मलंग तेरे दातिये,
साहनु भी चढ़ा दे रंग नाम वाला दातिये।।

संजीव सितारा माये तेरे गुण गाउंदा ऐ
भगत भी हर साल तेरे दर आउंदा ऐ,
सिख ले ने मंग ने ढंग तेतो दातिये,
साहनु भी चढ़ा दे रंग नाम वाला दातिये।।

Leave a Reply