सीता राम दर्श रस बरसे जैसे सावन की घडी

कौशल नंदन राजा राम
जानकी वल्लभ सीता राम
जय सिया राम जय जय सिया राम
जय सिया राम जय जय सिया राम

सीता राम दर्श रस बरसे
जैसे सावन की घडी
सावन की घडी
प्यासे प्राणों पे पड़ी
सीता राम दर्श रस बरसे
जैसे सावन की झड़ी

रोम रोम को नैन बना लो
राम सिया के दर्शन पा लो
बरसो पीछे आई है
ये मिलन की घड़ी
सीता राम दर्श रस बरसे
जैसे सावन की घडी

राम लखन अनमोल नगीने
अवध अंगूठी में जड लीले
सीता एसी सोहे जैसे मोती की लड़ी
सीता राम दर्श रस बरसे
जैसे सावन की घडी

राम सिया को रूप निहारे
नाचे गावे सब नर नारी
चल री दर्शन कर आवे
क्या सोचत खड़ी
सीता राम दर्श रस बरसे
जैसे सावन की झड़ी

Kaushal Nandan Raja Ram
Janki Vallabh Sita Ram
Jai Siya Ram Jai Jai Siya Ram
Jai Siya Ram Jai Jai Siya Ram

Sita Ram Daras Ras Barse
Jaise Saavan Ki Ghadi

Saavan Ki Ghadi Re
Pyase Praano Pe Padi

Sita Ram Daras Ras Barse
Jaise Saavan Ki Ghadi

Rom Rom Ko Nain Banalo
Ram Siya Ke Darshan Paalo
Barso Peechhe Aayi Hai
Ye Milan Ki Ghadi

Sita Ram Darash Ras Barse
Jaise Saavan Ki Ghadi

Ram Lakhan Anmol Nageene
Awadh Anghoothi Mein Jad Leene
Sita Aise Sohe Jaise Moti Ki Ladi

Sita Ram Darash Ras Barse
Jaise Saavan Ki Ghadi

This Post Has One Comment

  1. Pingback: Sri Ram ji ke Bhajans lyrics | राम भजन लिरिक्स इन हिंदी – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply