सुन रहा है ना तू रो रहा हू मैं

सुन रहा है ना तू रो रहा हू मैं
सुन रहा है ना तू क्यू रो रहा हू मैं।।

झोका हवा का पानी रेला
मेले में रह जाता जो अकेला
फिर वो अकेला ही रह जाता है
आदमी मुसाफिर है आता है जाता है
आते जाते रास्ते में यादे छोड़ जाता है।।

कब छोड़ है ये रोग जी को
दिल भूल जाता है जब किसी को
वो भूल कर भी याद आता है
आदमी मुसाफिर है आता है जाता है
आते जाते रास्ते में यादे छ्चोड़ जाता है।।

मुझको इरादे दे
कसमे दे वादे दे
मेरी दुआव को
इशारो के सहारे दे
दिल को ठिकाने दे
नये बहाने दे
ख्वाबो की बारीशो को
मौसम के पैमाने दे
अपने करम की कर आदाए
करदे इधर भी तू निगाहे
सुन रहा है ना तू
रो रहा हू मैं
सुन रहा है ना तू
क्यू रो रहा हू मैं।।

क्या साथ लाए क्या भूल आए
रास्ते में हम क्या क्या छोड़ आए
मंज़िल पे आके ही याद आता है
आदमी मुसाफिर है आता है जाता है।।

Sun Raha Hai Naa Tu Ro Raha Hu Main
Sun Raha Hai Naa Tu Kyu Ro Raha Hu Main

Jhoka Hawa Kaa Paani Rela
Mele Mein Rah Jata Jo Akela
Phir Vo Akela Hi Rah Jata Hai
Aadmi Musafir Hai Aata Hai Jata Hai
Aate Jaate Raste Mein Yaade Chhod Jata Hai

Kab Chhodta Hai Ye Rog Jee Ko
Dil Bhool Jaata Hai Jab Kisi Ko
Vo Bhool Kar Bhi Yaad Aata Hai
Aadmi Musafir Hai Aata Hai Jata Hai
Aate Jaate Raste Mein Yaade Chhod Jata Hai

Mujhko Irade De
Kasme De Vade De
Meri Duao Ko
Isharo Ke Sahare De
Dil Ko Thikane De
Naye Bahane De
Khwabo Ki Barisho Ko
Mausam Ke Paimane De
Apne Karam Ki Kar Aadaye
Karde Idhar Bhi Tu Nigahe
Sun Raha Hai Naa Tu
Ro Raha Hu Main
Sun Raha Hai Naa Tu
Kyu Ro Raha Hu Main

Kya Saath Laaye Kya Bhool Aaye
Raste Mein Hum Kya Kya Chod Aaye
Manzil Pe Aake Hi Yaad Aata Hai
Aadmi Musafir Hai Aata Hai Jata Hai

This Post Has 3 Comments

  1. Pingback: ईश्वर से करते जाना प्यार ओ नादान मुसाफिर – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  2. Pingback: Karle Jatan Hazar Panchhi Udd Jana – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  3. Pingback: यह प्रेम सदा भरपूर रहे भगवान तुम्हारे चरणों में – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply