"सोने की लंका जलाये "( विद लिरिक्स)- हनुमानजी का सुंदर सा भजन।#Renu club bhajan


"सोने की लंका जलाये "( विद लिरिक्स)- हनुमानजी का सुंदर सा भजन।#Renu club bhajan

Hanumanaji bhajan by renu club
Bajrangbali bhajan.
हनुमानजी भजन।
सोने की लंका जलाये ।
Sone ke lanka jalaye by renu club

नमस्कार दोस्तो आज मैं आपके लिए एक प्यारा सा हनुमानजी का भजन लायी हूँ आपको कैसा लगा कंमेंट बॉक्स में जरूर बतायें।धन्यवाद।
लिरिक्स:-
राम का ऐसा दीवाना दूसरा कोई नहीं
कहता है सारा जमाना दूसरा कोई नहीं
1)- खोज सीता जी की लाये सोने की लंका जलाये
धीर रघुवर को बँधाये दूसरा कोई नहीं
2)-राम के रंग में रंगे हैं राम सांसो में रमे हैं
राम सीने में बसे हैं दूसरा कोई नहीं।
3)-राम की सेवा में जीवन कर दिया जिसने समर्पण
राम को अभिमान जिन पर दूसरा कोई नहीं।
4)-राम जी का भक्त ऐसा न हुआ होगा कोई
राम जी मोहित है जिन पर दूसरा कोई नहीं।

#Hanumanjibhajan#Renuclub

Copyright Disclaimer Under Section 107 of the Copyright
Act 1976, allowance is made for “fair use” for purposes
such as criticisn, comment,news reporting, teaching,
scholarship, and research. Fair use is a use permitted
by copyright statute that might otherwisebe infringing.
Non-profit, educational or personal use tips the balance
Javor of fair Use.
#quotसन #क #लक #जलय #quot #वद #लरकस #हनमनज #क #सदर #स #भजनRenu #club #bhajan

Leave a Reply