सोने के सिंगाशन बेठ रहे भगवान है लिरिक्स

जन्म भूमि का हो रहा निर्माण है
तम्बू से सिंगाशन बेठ रहे भगवान है

मंगल भवन अम्ग्ल हरी दवु सुदाश्त्थ अजर बिहारी,
सरयू जी का अब सिद्ध हुआ अस्नान है
सोने के सिंगाशन बेठ रहे भगवान है

राम जन्म जग मंगल हेतु सत्ये संग सूती पालक सेतू,
मंदिर बन ने से आई जान में जान है
सोने के सिंगाशन बेठ रहे भगवान है

जो आंनंद सिन्दू सुख रासी सी करते तिरलोक सुपासी,
खुश नाच रहे अब अनजानी के लाल है
सोने के सिंगाशन बेठ रहे भगवान है

सो सुख धाम राम यश नामा अखिल लोक ध्याक विशरामा,
मेहंत ब्रिज मोहन देवन्दर का राम में ध्यान है,
सोने के सिंगाशन बेठ रहे भगवान है

janm bhoomi ka ho raha nirmaan hai
tamboo se singaashan beth rahe bhagavaan hai

mangal bhavan amgl haree davu sudaashtth ajar bihaaree,
sarayoo jee ka ab siddh hua asnaan hai
sone ke singaashan beth rahe bhagavaan hai

raam janm jag mangal hetu satye sang sootee paalak setoo,
mandir ban ne se aaee jaan mein jaan hai
sone ke singaashan beth rahe bhagavaan hai

jo aannand sindoo sukh raasee see karate tiralok supaasee,
khush naach rahe ab anajaanee ke laal hai
sone ke singaashan beth rahe bhagavaan hai

so sukh dhaam raam yash naama akhil lok dhyaak visharaama,
mehant brij mohan devandar ka raam mein dhyaan hai,
sone ke singaashan beth rahe bhagavaan hai

Leave a Reply