हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है

क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

किसी जीव पर भी कोई संकट जब आये
किसी जीव पर भी कोई संकट जब आये
चाहे जो भी भाषा हो सब तुझको पुकारा है
क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

जब मुझे होश न था तब मेरा ख्याल रखा
अब उन्हें याद करना ये फर्ज हमारा है
क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

जब मुझे होश न था तब मेरा ख्याल रखा
अब उन्हें याद करना ये फर्ज हमारा है
क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

बुझे गया जो दीपक ये फिर नहीं जलने वाला
ये वो चिराग है जो जलता न दुबारा है
क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

पतवार पे तुम अपने गुरुवर को बैठा दो
फिर चिंता छोड़ दो तुम और देखो किनारा है
क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

क्या हाल हमारा था क्या हाल हमारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है
हम उनको भूल गए जो दुःख में सहारा है।।

This Post Has 3 Comments

  1. Pingback: पावन प्रभु का नाम लिए जा रहा हूँ मैं – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  2. Pingback: किसी के काम जो आये उसे इंसान कहते हैं – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  3. Pingback: bhajan lyrics sangrah – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply