हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला

हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला
हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला।।
हरी के भजन ना किया तो घर के ना घाट के होंगे
नर तन के पाके जीवन बनाले पगला
देहिया के पाके जीवन बनाले पगला
हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला।।

हरी के भजन ना किया तो घर के ना घाट के होंगे
हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला।।

गणिका अजामिल गिद्ध सबर हो गयी सीधा
वर पिया के जीवन बनाले रे पगला
हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला।।

हरी के भजन ना किया तो घर के ना घाट के होंगे
हरी गुन गा के जीवन बनाले पगला।।

Leave a Reply