हरी ने हिये नहीं धारा रे

राम नाम में अलसी और भोजन में होशियार
तुलसी ऐसे जीव को भाई बार बार धिक्कार।।

हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे ।
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे ॥

नैण से निरख्या नहीं नन्दा ,
नैण से निरख्या नहीं नन्दा ।
उन नर केरा नैण कहिजे मोर पंख चन्दा
उन नर केरा नैण कहिजे मोर पंख चन्दा।।
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे।।

कान से सुणी नहीं कथा ,
कान से सुणी नहीं कथा ।
उण नर केरा कान कहिजे कीड़ी दर जैसा
उण नर केरा कान कहिजे कीड़ी दर जैसा
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे।।

हाथ से फेरी नहीं माळा ,
हाथ से फेरी नहीं माळा
उण नर केरा हाथ कहिजे ,वृक्षन रा डाला
उण नर केरा हाथ कहिजे ,वृक्षन रा डाला
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे।।

पाँव से चल्या नहीं गुरु पासा ,
पाँव से चल्या नहीं गुरु पासा ।
उण नर केरा पाँव कहिजे ,देवल थम्ब जैसा
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे।।

हरि का भजन नहीं करता ,
राम का भजन नहीं करता ।
राम लाल कहे जगत में बंदर ज्यूं फिरता
राम लाल कहे जगत में बंदर ज्यूं फिरता
हरी ने हिये नहीं धारा रे ,
राम ने हिये नै धारा रे
वो नर पशु समान ज्यांरा धूड़ जमारा रे।।

Rajasthani Bhajan Lyrics

This Post Has One Comment

Leave a Reply