हुई किरपा बहुत मुझ पर माँ के दर

जय जय माँ जय जय माँ
हुई किरपा बहुत मुझ पर माँ के दर माँ के दर
माँ के दर चलो माँ के दर
मेरी झोली गई है भर माँ के दर माँ के दर

पास क्या था मेरे जब मैं माँ के द्वारे आया
इनकी ही दुआ से ये सब कुछ है पाया
न रही कोई भी अब कसर माँ के दर माँ के दर
हुई किरपा बहुत मुझ पर माँ के दर माँ के दर

औकात से भी ज्यदा माँ ने दिया है
एहसान मैया ने क्या क्या किया है
कदमो में जूक माँ के सिरमाँ के दर माँ के दर
हुई किरपा बहुत मुझ पर माँ के दर माँ के दर

एहसान इतना सा और मैया करना
अखिओ से दूर कभी मुझको न करना
आते जाते गुजरे ये उमर
माँ के दर माँ के दर
हुई किरपा बहुत मुझ पर माँ के दर माँ के दर

Leave a Reply