हे भारत के राम जगो मैं तुम्हे जगाने आया हूं

वंदे वंदे मातरम वंदे वंदे
वंदे वंदे मातरम वंदे वंदे
हे भारत के राम जगो मैं तुम्हे जगाने आया हूं
सो धर्मों का एक धर्म बलदान बताने आया हूं
सुनो हिमालय केद हुआ है दुश्मन की जंजीरों में
आज बता दो कितना पानी है भारत के वीरों में

खड़ी शत्रु की फौज द्वार पर
खड़ी शत्रु की फौज द्वार पर आज तुम्हें ललकार रही
सोए सिंह जागो भारत के माता तुम्हें पुकार रही

क्या कहते हो मेरे भारत से चीनी टकराएंगे
चीनी को तो हम पानी में घोल घोल पी जाएंगे

वह बर्बर था वह अशुद्ध था हमने उसको शुद्ध किया
हमने उसको बुध दिया और उसने हमको युद्ध दिया..
उसने हमको युद्ध दिया..

आज बंधा है कफन शीश पर
आज बंधा है कफन शीश पर जिसको आना आ जाओ
जिसको आना आ जाओ

आज बंदा है कफन शीश पर जिसको आना आ जाओ
चायू म्याऊ चीनी मिनी जिसमें दम है टकराओ
चायू म्याऊ चीनी मिनी जिसमें दम है टकराओ

रण की भेरी बज रही है उठो मोह निंद्रा त्यागो
पहला शीश चढ़ाने वाले मां के वीर पुत्र जागो
बलिदानों के वज्र दंड पर देशभक्त की ध्वजा जगे
वह राष्ट्रभक्त की भुजा जगे

अग्निपथ के पंथी जागो ओ ओ
अग्नीपथ के पंथी जागो शीश हथेली पर धरकर
ओ शीश हथेली पर धरकर
अग्नीपथ के पंथी जागो शीश हथेली पर धरकर
जागो रक्त के भक्त लाडलो जागो सर के सौदागर

खप्पर वाली काली जागे जागे दुर्गा बरबंडा
रक्तबीज का रक्त चाटने वाली जागे चामुंडा
नरमुंडा की माला वाली जगे कपाली कैलाशी
रण की चंडी घर-घर नाचे मौत कहे प्यासी प्यासी
मौत कहे प्यासी प्यासी

रावण का वध स्वयं करूंगा
रावण का वध स्वयं करूंगा कहने वाला राम जगे
कहने वाला राम जगे…
रावण का वध स्वयं करूंगा कहने वाला राम जगे
कोरव शेष न एक बचेगा कहने वाला श्याम जगे

परशुराम का परसु जागे रघुनंदन का बाण जगे
यदुनंदन का चक्र जगे अर्जुन का धनुष महान जगे
यदुनंदन का चक्र जगे अर्जुन का धनुष महान जगे
चोटीवाला जगे चाणक्य पौरुष पुरुष महान जगे
सेल्यूकस को कसने वाला चंद्रगुप्त बलवान जगे
चंद्रगुप्त बलवान जगे

हठी हमीर जगे जिसने
हठी हमीर जगे जिसने झुकना कभी न जाना
झुकना कभी न जाना
हठी हमीर जगे जिसने झुकना कभी न जाना
जागे पद्मिनी का जौहर जागे केसरिया बाना

देशभक्त का जीवित झंडा आज़ादी का दीवाना
वह प्रताप का सिंह जगे वह हल्दीघाटी का राणा
दक्षिण वाला जगह शिवाजी खून साहाजी का ताजा
मरने की हठ ठाना करते विकट मराठों के राजा
विकट मराठों के राजा

कलीवाए का जगे मोर्चा
कलीवाए का जगे मोर्चा पानीपत मैदान जगे
भगत सिंह की फांसी जागे राजगुरु के प्राण जगे

जिस के रक्त से बनता है रण का केसरिया बाना
ओ कश्मीर हड़पने वाले कान खोल सुनते जाना
जो हमसे टकराएगा वह चूर चूर हो जाएगा
इस मिट्टी को छूने वाला मिट्टी में मिल जाएगा
मिट्टी में मिल जाएगा

मैं घर घर में इंकलाब की
मैं घर घर में इंकलाब की आग लगाने आया हूं
आग लगाने आया हूं
मैं घर घर में इंकलाब की आग लगाने आया हूं
हे भारत के राम जगो मैं तुम्हे जगाने आया हूं

हे भारत के राम जगो मैं तुम्हे जगाने आया हूं
हे भारत के राम जगो मैं तुम्हे जगाने आया हूं

#Singer – Chhotu Singh Rawna


Vande Vande Matram Vande
Vande Vande Matram Vande
He Bharat Ke Ram Jago
Main Tumhe Jagane Aaya Hu

Sau Dharmo Ka Dharma Ek
Balidaan Batane Aaya Hu

Suno Himalay Kaid Hua hai
Dushman Ki Janjeero Mein
Aaj Bata Do Kitna Paani Hai
Bharat Ke Veero Mein

Khadi Shatru Fauj Dwar Par
Aaj Tumhe Lalkar Rahi
Soye Singh Jago Bharat Ke
Mata Tumhe Pukar Rahi

Kya Kehte Ho Mere Bharat Se
Chini Takrayenge

Chini Ko To Hum Paani Mein
Ghol Ghol Pee Jayenge

Vah Barbar Tha Vah Ashudh Tha
Hamne Usko Shuddh Kiya
Humne Usko Buddh Diya
Usne Humko Yuddh Diya

Aaj Bandha Hai Kafan Sheesh Par
Jisko aana Hai Aajao
Chau Myau Cheeni Meeni
Jisme Dam Hai Takrao

Ran Ki Bheri Baj Rahi Hai
Utho Moh Nindra Tyago
Pahla Sheesh Chadane Wale
Maa Ke Veer Putra Jaago

Balidano Ke Vajra Dand Par
Desh Bhakt Ki Dhwaja Jage

Ran Ke Kankar Pahne Hai
Vo Rashtra Bhakt Ki Bhuja Jage

Agni Path ke Panthi Jaago
Sheesh Hatheli Par Dhar kar
Jago Rakt Ke Bhakt Ladlo
Jago Sir Ke Saudagar

Khappar Wali Kali Jage
Jage Durga Barbanda

Rak Beej Ka Rakt Chatane Wali
jaage Chamunda

Nar Mundo Ki Mala Wali Jage Kapali Kailashi

Nar Ki Chandi Ghar Ghar Nache
Maut Kahe Pyasi Pyasi

Rawan Ka Vadh Swayam karunga
Kehne Wala Ram Jage

Kaurav Shesh Na Ek Bachega
Kehne Wala Shyam Jage

He Bharat Ke Ram Jago
Main Tumhe Jagane Aaya Hu

This Post Has One Comment

Leave a Reply