होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ

होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ,
वृन्दावन रेहान वलियाँ,वृन्दावन रेहान वलियाँ,
होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ।।

थक गया जग नाल खेल खेल होलियां,
भर भर रंगा दियां गागरा ने ढोलियाँ,
रंग लेह गया नालो नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ,
होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ।।

छड़ मुरली हूँ फड़ पिचकारी वे,
प्रेम दे रंग विच रंग दुनियां सारी वे,
तू वि हो जा लालो लाल वृन्दावन रेहान वलियाँ,
होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ।।

खेल गुलाल चाहे खेल फूल होली वे,
खेल लड्डू होली भावे खेल लाठ होली वे,
भावे खेल ले मखना दे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ,
होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ।।

वज रहे होलियां ते ढोल नगाड़े ने,
नच ले मधुक आज नच रहे सारे ने,
अज नच नच के हो जा निहाल वृन्दावन रेहान वलियाँ,
होली खेलनी ऐ आज तेरे नाल वृन्दावन रेहान वलियाँ।।

Leave a Reply