होश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद

होश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद,
वक़्त की कीमत समझता वक़्त के जाने के बाद।।

जब बदलने का समय था तब तो तू बदला नही,
अब जो बदला क्या हुआ सब कुछ बदल जाने के बाद,
हौश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद।।

क्यू खड़ा अफ़सोश करके कल की बातो पे जनाब,
लौट कर आता नही है तीर चल जाने के बाद,
हौश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद।।

आज तो बेमोल तुझको दे रहे है दाद सब,
लोग जाने क्या कहेंगे कल तेरे जाने के बाद,
हौश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद।।

आने से पहले मुसाफिर राहो में उलझा रहा,
लौटा फिर मायूस होकर गाड़ी निकल जाने के बाद,
हौश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद।।

होश आता है बशर को उम्र ढल जाने के बाद,
वक़्त की कीमत समझता वक़्त के जाने के बाद।।

Hosh Aata Hai Bashar Ko Umr Dhal Jane Ke Baad
Waqt Ki Keemat Samajhta Waqt Ke Jaane Ke Baad

Hosh Aata Hai Bashar Ko Umar Dhal Jane Ke Baad
Waqt Ki Keemat Samajhta Waqt Ke Jaane Ke Baad

Aane Se Pahle Musafir Raho Mein Uljha Raha
Lauta Mayus Hokar Gaadi Nilak Jaane Ke Baad

Jab Badalne Ka Samaye Tha Tab To Tu Badla Nahi
Ab Jo Badla Kya Hua Sab Kuchh Badal Jaane Ke Baad

Kyu Khada Afsosh Karta Kal Ki Baato Pe Janab
Laut Kar Aata Nahi Hai Teer Chal Jaane Ke Baad

Aaj To Bemol Tujhko De Rahe Hai Daad Sab
Log Jaane Kya Kahenge Kal Tere Jaane Ke Baad

Hosh Aata Hai Bashar Ko Umr Dhal Jane ke Baad
Waqt Ki Keemat Samajhta Waqt Dhal Jaane Ke Baad

Hosh Aata Hai Bashar Ko Umar Dhal Jane ke Baad
Waqt Ki Keemat Samajhta Waqt Ke Jaane Ke Baad

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply