aaj beti janak ki awath ko chali maa ki mamta chali ghar ki laksmi chali

आज बेटी जनक की अवध को चली
मां की ममता चली घर की लक्ष्मी चली ॥
आई बेटी….

कौन कहता है ज्ञानी जनक हैं बड़े,
प्यारी बेटी के आँसू लिये हैं खड़े,
मां सुनैना के आँखों की पुतली चली,
आज बेटी जनक…… …

तोता मैना पुकारे सिया ओ सिया,
बन्द पिंजरे में क्यूँ तूने मुझको किया,
आज उड़ जा तहन भी अवध की गली,
आज बेटी जनक…………

तोता रोओ नहीं न रोओ सरका,
आँसुओ से भरा है जीवन नारी का,
कह देना पिता की दुलारी चली
आज बेटी जनक……….

Leave a Reply