ae husan ki sarkar tumhe dekhta rahu

जी चाहे बार बार तुम्हें देखता रहूँ
ए हुस्न की सरकार तुम्हें देखता रहूँ

आंखों के रास्ते तुम्हें दिल में उतार लूँ
आंखों के रास्ते तुम्हें दिल में उतार लूँ
हर पल ओ बाँके यार ,तुम्हें देखता रहूँ।
जी चाहे बार बार ——————————

युग युग से प्यासी रूह को दीदार हो तेरा
युग युग से प्यासी रूह को दीदार हो तेरा
अब ना हो इंतजार, तुम्हें देखता रहूँ।
जी चाहे बार बार ———–——————–

दिल की लगी है दास कोई दिल्लगी नहीं
दिल की लगी है दास कोई दिल्लगी नहीं
तुझ पर दूं जान वार, तुम्हें देखता रहूँ।
जी चाहे बार बार ——————————–

जी चाहे बार बार तुम्हें देखता रहूँ
ए हुस्न की सरकार तुम्हें देखता रहूँ।।

Leave a Reply