apne hi mn se ram ko bhulay ke

अपने ही मन से राम को भुलाय के
सजा पइहो मनवा हरी विश्राय के

गर्भ में पहिले कौल करि आयए

यहाँ पर आके प्रभु को भुलाये
गर्भ में पहिले कौल करि आयए
यहाँ पर आके प्रभु को भुलाये
भूल गइले प्राणी प्रभु को माया में फसाय के
सजा पइहो मनवा हरी विश्राय के

स्वास का पंछी जबहि उड़ जइहै

तो खली पिजरा परा रही जइहै
स्वास का पंछी जबहि उड़ जइहै
तो खली पिजरा परा रही जइहै
ले जावे घरके तेरे कंधे पे उठाय के
सजा पइहो मनवा हरी विश्राय के

लकडिया चुन-चुन सेज सजवहय

ताहि पे तुहका ढंग से लेटाइहय
लकडिया चुन-चुन सेज सजवहय
ताहि पे तुहका ढंग से लेटाइहय
फूक देइहय देहिया तोहरी अगिया लगाय के
सजा पइहो मनवा हरी विश्राय के

Leave a Reply