arsh to digiyan da jogi hi sahara hai charna vich tahiyo jhukda jag saara hai

अर्शां तों डिगियाँ दा जोगी ही सहारा है,
चरना विच ताहिओ झुक्दा जग सारा है,
अर्शां तों डिगियाँ…

जोगी दा दरबार सुहाना लगता है,
सारा ही संसार दीवाना लगता है,

दुनियां विच मिलदा नही किधर इन्साफ जदों,
जोगी /बाबे दी अदालत विच हुंदा निश्तारा है,
अर्शां तों डिगियाँ……

जोगी दा दरबार सुहाना लगता है,
सारा ही संसार दीवाना लगता है,

जग दे ठुकराया नु जद कोई गल लाउंदा नही,
बाबा जी कर देंदे ओहदा पार उतारा है,
अर्शां तों डिगियाँ……

जोगी दा दरबार सुहाना लगता है,
सारा ही संसार दीवाना लगता है,

ओहदी रहमत दा सुखियाँ तू सुकर वि करियां कर,
बाबे/जोगी दे नाम बिना सब कुढ़ पसारा है,
अर्शां तों डिगियाँ……

जोगी दा दरबार सुहाना लगता है,
सारा ही संसार दीवाना लगता है,

जय जय बोले सारे जय जय बोलो,
जय बाबे दी बोल सारे जय जय बोल,

हम भी तेरे दर पे सर झुकाने आये है,
दिल की दास्तान तुझे सुनाने आये है,
ज़िन्दगी की रास्तो से हम है बे खबर,
चिमटे वाले सैयां कर दे मेहर की नजर,

दिल का ये रिश्ता पुराना लगता है,
सारा ही संसार दीवाना लगता है,

Leave a Reply