asi jehde naath de chele aa oh vich talaiyan rehnda hai

असी नाम दे रंग विच रहने आ,
सबना नु जी जी कहने आ,
सहनु घुड्ती जेहडे पीर दी है सहनु नीवे रहन नु कहंदा है,
असी जेह्ड़े नाथ दे चेले आ ओ विच तलाइया रहंदा है,

सहनु आसारा ओहदी झोली दा किसे होर कोलो कुछ मंगदे नही,
असी खाने आ सिद्ध जोगी दा गल कहन तो भी कदे संग दे नि,
साडा हर था फयदा हो जांदा सहनु किते न घाटा पेंदा है,
असी जेह्ड़े नाथ दे चेले आ ओ विच तलाइया रहंदा है,

जिह्ना ने डोरा सिद्ध जोगी ते सुटियाँ ने दुखा विच भी सुख दियां मौजा लुटिया ने.

ओहदा इश्क बोला सिर चड़ के हर साह नाल दम ओहदा भर दे आ,
साडी सोच तो ज्यदा दे दिता रज रज के मौजा करदे आ,
सादे एब गुन्हा रख पासे साड़ी हर इक गल मन लेनदा है,
असी जेह्ड़े नाथ दे चेले आ ओ विच तलाइया रहंदा है,

जेह्दा सहनु टोकना चाहन्दा सी पूरा जोर लगा ले हार गया,
सहनु तस तो मस न कर स्केया आपना ही मथा मार गया,
जेह्दे सिर उते हर जोगी दा ओह कदे न डिग दा तह्न्दा है,
असी जेह्ड़े नाथ दे चेले आ ओ विच तलाइया रहंदा है,

साड़ा रब भी है साडा पीर भी है साडा प्यार भी एह साडा यार भी एह,
गौतम दी वोट बस जोगी नु क्यों साड़ी ओ सरकार भी है,
साडे घर विच बेह्न्दा सिद्ध जोगी साडे शत ते मोर ओहदा वेह्न्दा है,
असी जेह्ड़े नाथ दे चेले आ ओ विच तलाइया रहंदा है,

Leave a Reply