baba ji di singi gl

मूर्ति सजा के रखदे मूर्ति सजा के रखदे,
मूर्ति है मूर्ति सजा के रखदे जय हो
मुखो लाऊंदे रेहन जोगी दे जयकारे ,
बाबा जी दी सिंग्नी गल पा के रखदे,
पौन्हारी जी दे भगत प्यारे ,

जिसने वी गल विच सिंगी पा लई,
तर गये ने ओह जिंदगी बना लई,
ओहदे चरना च सुरती लगा लई,
ओहदे धुनें दी भभूती लखा तारे,
बाबा जी दी सिंग्नी गल पा के रखदे,
पौन्हारी जी दे भगत प्यारे ,

रोट परशाद लै के जान संगता ,
गुफा उते छेले वी चड़ाउन्दे ,
मंगियाँ मुरादा ओथो पाऊंन संगता,
देखो रंग मेरे जोगी दे न्यारे,
बाबा जी दी सिंग्नी गल पा के रखदे,
पौन्हारी जी दे भगत प्यारे ,

बाबा जी सिंगी ने जहां तारेया,
पा लै गल सिंगी सोहनी पट्टी वालेया,
दुःख कट जाऊ दुखा दियां मारिया,
ऋषि सोनू जेहे लखा ओहने तारे,
बाबा जी दी सिंग्नी गल पा के रखदे,
पौन्हारी जी दे भगत प्यारे ,

Leave a Reply