baba ji rakhi charn de kol

बोहडा वालेया बाबा जी रखी चरना दे कोल
चिमटे वालेया सैयां तू रखी चरना दे कोल,
रखी चरना दे कोल रखी चरना दे कोल,
सिंगियाँ वालेया बाबा तू रखी चरना दे कोल,
धुनें वालेया बाबा तू रखी चरना दे कोल.
रखी चरना दे कोल रखी चरना दे कोल.
गौआ वालेया बाबा जी रखी चरना दे कोल,
पुआ वालेया बाबा जी रखी चरना दे कोल,

दर दर दे मैं थके खा के दर तेरे ते आया,
होवेगा फिर हाल की मेरा जे तू वी ठुकारियाँ,
जे तू वी ठुकराया मेनू झलेगा कौन ,
चिमटे वालेया सैयां तू रखी,

तू पीरा दा पीर जोगिया तू जय जग दा दाता.
तू ही मेरा बन्धु सखा है तू ही पित और माता,
तू ही पित और माता मैं तेरा बछड़ा अन्भोल,
पौनाहारी बाबा जी रखी ………..

अपने रंग विच रंग दे जोगी ऐसा रंग चडा दे ,
रोम रोम विच मेरे बाबा अपना नाल वसा दे,
अपना नाम वसा दे असी जाइए न डोल,
सिंगियाँ वालेया बाबा तू रखी,…………

तेरे जेहा मेनू होर न कोई मैं जेहे लख तेनु,
जे मेरे विच ऐब ना हुँदै तू बख्सेंदा कहनू,
तू बख्शेन्दा कहणु कागज बदियाँ दे न फोल
पाउआ वालेया बाबा जी रखी……

सो सो तरले पावा जोगी इक वारी दर्श दिखा दे,
भोले बछडे दर ते आये खैर विच पा दे,
खैर झोली पा दे दे के लाल अनमोल.
धुनें वालेया बाबा तू रखी ……….

Leave a Reply