baba ki tasveer main esi banaugi

बाबा की तस्वीर मैं ऐसी बनाउंगी
जैसे बहैठे खाटू में वैसे दिखलाऊँगी
बाबा की तस्वीर ………….

मेरे मन के मंदिर में उनका आसान है
इन सांसों में उसी नाम की धड़कन है
श्याम नाम रंग में मैं तो रंग जाउंगी
जैसे बहैठे खाटू में वैसे दिखलाऊँगी
बाबा की तस्वीर ………….

हट जाएगा दीवानो का सारा सूनापन
हर कोने में होंगे बाबा के दर्शन
सपना पूरा करके मैं तो दिखलाऊँगी
जैसे बहैठे खाटू में वैसे दिखलाऊँगी
बाबा की तस्वीर ………….

मेरा घर भी बन जायेगा छोटा सा एक धाम
आकर करेंगे यहाँ बाबा को प्रणाम
अँधियारा मैं घर का दूर भगाऊँगी
जैसे बहैठे खाटू में वैसे दिखलाऊँगी
बाबा की तस्वीर ………….

Leave a Reply