baba te baalak kahaawe mera nath jehda duniya nu taar da

बाबा ते बालक कहावे मेरा नाथ जेहडा दुनिया नु तार दा,
जो भी दर आवे कहंदे शरदा दे नाल ओहदे डूबे वेहड़े तार दा,
बाबा ते बालक कहावे मेरा नाथ….

जटा ने सुनहरी मुख चन्न नालो सोहना है,
एहदे जेहा दुनिया ते होर न कोई होना है,
महिमा किवे दसा एहदी अप्रम पार काज सब दे सवार दा,
बाबा ते बालक कहावे मेरा नाथ

रतनो दे लाल दिया खेडा ने न्यारियाँ बारहा साल,
जंगला च ग़ुआ एहने चारियाँ,
दूधाधारी आखे एह्नु सारा संसार दूध पी के सीना ठार दा,
बाबा ते बालक कहावे मेरा नाथ

मोर दी सवारी कर मार दा उडारियां महिमा एहदी बहुत सारे लिखी है लिखारियां,
ऋषि बलराम एहदी करे जय जय कार जेह्डा कड़े भी नही हार दा,
बाबा ते बालक कहावे मेरा नाथ

Leave a Reply