baba tere dar se rishta purna hai har gyaras me mujhe tere dar pe aana hai

बाबा तेरे दर से रिश्ता पुराना है,
हर ग्यारस में मुझे तेरे दर पे आना है
सँवारे छूटे न डोर सँवारे,
सँवारे दूजी न थॉर सँवारे,

मेरे ख्यालो में तुम रोज आते हो,
बाहो को फेहलाकर मुझे गल्ले लगते हो,
तुम को हकीकत में अपना बनाना है,
हर ग्यारस में मुझे तेरे दर पे आना है
सँवारे छूटे न डोर सँवारे,………

खुशियों का हर लम्हा तेरी बदौलत है,
तेरा प्यार ही बाबा जीवन की दौलत है,
चरणों में अब तेरे जीवन बिताना है,
हर ग्यारस में मुझे तेरे दर पे आना है
सँवारे छूटे न डोर सँवारे,………

जो काम दिया तूने वही कर्म है मेरा,
तेरी सेवा ही बाबा अब धर्म है मेरा,
तेरे एक इशारे पे सब कुछ लूटना है,
हर ग्यारस में मुझे तेरे दर पे आना है
सँवारे छूटे न डोर सँवारे,………

वैसे तू नैनो में हर पल रहता पर ग्यारस में बाबा कुछ ख़ास लगता है,
सोनू गिनी हर दम रिश्ता निभाना है,
हर ग्यारस में मुझे तेरे दर पे आना है
सँवारे छूटे न डोर सँवारे,………

कृष्ण भजन

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply