bhagtaa na teri lod

उचियाँ घाटियाँ चडन चडाईया पैरी चुब्दे रोड,
बाबा तेनु साडी नि भगता नु तेरी लोड,

नाले तेरे जय जय करदे नाले चडन चडाई
चरण अमृत दा पी प्याला हो गया नाम सुदाई,
उचे उचे पर्वत देखे बिंगे टेड़े मोड़,
बाबा तेनु साडी नि भगता नु तेरी लोड,

दूर दूर तो संगता बाबा तेरे चरनी आवन,
चरना दे विच शीश झुका के म्न्गियाँ मुरादा पावन,
तेरी चरनी शीश झुकावा खाली न तू मोड़,
बाबा तेनु साडी नि भगता नु तेरी लोड,

असी हां तेरे बाल न्याने जोगी मेहरा करदे,
बड़े चीरा तो आस लगाई खाली झोली भरदे,
तेरे दर ते मैं आसा लाइयाँ दिल न मेरा तोड़,
बाबा तेनु साडी नि भगता नु तेरी लोड,

पहला क्यों तू पाया सहनु प्यार दियां जंजीरा,
हूँ पासा दे के क्यों लंग जावे देख के तन ते लीरा,
लाल नु अपने चरनी ला लै रख चरना दे कोल,
बाबा तेनु साडी नि भगता नु तेरी लोड,

Leave a Reply