दुर्गा सप्तशती देवीमयी

॥ देवीमयी ॥ तव च का किल न स्तुतिरम्बिके!सकलशब्दमयी किल ते तनुः। निखिलमूर्तिषु मे भवदन्वयोमनसिजासु बहिःप्रसरासु च॥ इति विचिन्त्य शिवे!…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती देवीमयी

श्री देवीजी की आरती, जग जननी जय जय

॥ श्रीदेवीजी की आरती ॥ जगजननी जय! जय!! (मा! जगजननी जय! जय!!)। भयहारिणि, भवतारिणि, भवभामिनि जय! जय!!॥ जगजननी जय जय...…

Continue Readingश्री देवीजी की आरती, जग जननी जय जय
Read more about the article दुर्गा सप्तशती सिद्ध सम्पुट मन्त्र
bhajan

दुर्गा सप्तशती सिद्ध सम्पुट मन्त्र

1. सामूहिक कल्याण के लिये - देव्या यया ततमिदं जगदात्मशक्त्या निश्शेषदेवगणशक्तिसमूहमूत्‍‌र्या।तामम्बिकामखिलदेवमहर्षिपूज्यां भक्त्या नताः स्म विदधातु शुभानि सा नः॥ 2. विश्‍व के अशुभ…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती सिद्ध सम्पुट मन्त्र

दुर्गा सप्तशती सिद्ध कुञ्जिका स्तोत्रम्

॥ सिद्धकुञ्जिकास्तोत्रम् ॥ शिव उवाच शृणु देवि प्रवक्ष्यामि, कुञ्जिकास्तोत्रमुत्तमम्। येन मन्त्रप्रभावेण चण्डीजापः शुभो भवेत॥1॥ न कवचं नार्गलास्तोत्रं कीलकं न रहस्यकम्।…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती सिद्ध कुञ्जिका स्तोत्रम्

दुर्गा सप्तशती अपराध क्षमापन स्तोत्रम्

॥ अथ देव्यपराधक्षमापनस्तोत्रम् ॥ न मन्त्रं नो यन्त्रं तदपि च न जाने स्तुतिमहो न चाह्वानं ध्यानं तदपि च न जाने…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती अपराध क्षमापन स्तोत्रम्

दुर्गा माहात्म्य दुर्गा द्वात्रिंश नाममाला

॥ अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला ॥ दुर्गा दुर्गार्तिशमनी दुर्गापद्विनिवारिणी। दुर्गमच्छेदिनी दुर्गसाधिनी दुर्गनाशिनी॥ दुर्गतोद्धारिणी दुर्गनिहन्त्री दुर्गमापहा। दुर्गमज्ञानदा दुर्गदैत्यलोकदवानला॥ दुर्गमा दुर्गमालोका दुर्गमात्मस्वरूपिणी। दुर्गमार्गप्रदा दुर्गमविद्या…

Continue Readingदुर्गा माहात्म्य दुर्गा द्वात्रिंश नाममाला

देवी महात्म्यम दुर्गा मानस पूजा

॥ श्रीदुर्गामानस-पूजा ॥ उद्यच्चन्दनकुङ्कुमारुणपयोधाराभिराप्लावितां नानानर्घ्यमणिप्रवालघटितां दत्तां गृहाणाम्बिके। आमृष्टां सुरसुन्दरीभिरभितो हस्ताम्बुजैर्भक्तितो मातः सुन्दरि भक्तकल्पलतिके श्रीपादुकामादरात्॥1॥ देवेन्द्रादिभिरर्चितं सुरगणैरादाय सिंहासनं चञ्चत्काञ्चनसंचयाभिरचितं चारुप्रभाभास्वरम्। एतच्चम्पककेतकीपरिमलं…

Continue Readingदेवी महात्म्यम दुर्गा मानस पूजा

दुर्गा सप्तशती क्षमा प्रार्थना

॥ क्षमा-प्रार्थना ॥ अपराधसहस्त्राणि क्रियन्तेऽहर्निशं मया। दासोऽयमिति मां मत्वा क्षमस्व परमेश्‍वरि॥1॥ आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्। पूजां चैव न…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती क्षमा प्रार्थना

दुर्गा सप्तशती मूर्ति रहस्यम्

॥ अथ मूर्तिरहस्यम् ॥ ऋषिरुवाच ॐ नन्दा भगवती नाम या भविष्यति नन्दजा। स्तुता सा पूजिता भक्त्या वशीकुर्याज्जगत्त्रयम्॥1॥ कनकोत्तमकान्तिः सा सुकान्तिकनकाम्बरा।…

Continue Readingदुर्गा सप्तशती मूर्ति रहस्यम्