श्री अन्नपूर्णा चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥ विश्वेश्वर-पदपदम की,रज-निज शीश-लगाय। अन्नपूर्णे! तव सुयश,बरनौं कवि-मतिलाय॥ ॥ चौपाई ॥ नित्य आनन्द करिणी माता।वर-अरु अभय भाव प्रख्याता॥…

Continue Readingश्री अन्नपूर्णा चालीसा – हिन्दी
Read more about the article श्री नर्मदा चालीसा – हिन्दी
bhajan

श्री नर्मदा चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥ देवि पूजिता नर्मदा,महिमा बड़ी अपार। चालीसा वर्णन करत,कवि अरु भक्त उदार॥ इनकी सेवा से सदा,मिटते पाप महान।…

Continue Readingश्री नर्मदा चालीसा – हिन्दी

श्री शाकम्भरी चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥ बन्दउ माँ शाकम्भरी,चरणगुरू का धरकर ध्यान। शाकम्भरी माँ चालीसा का,करे प्रख्यान॥ आनन्दमयी जगदम्बिका,अनन्त रूप भण्डार। माँ शाकम्भरी…

Continue Readingश्री शाकम्भरी चालीसा – हिन्दी

श्री संतोषी माता चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥ श्री गणपति पद नाय सिर,धरि हिय शारदा ध्यान। सन्तोषी मां की करुँ,कीरति सकल बखान॥ ॥ चौपाई ॥…

Continue Readingश्री संतोषी माता चालीसा – हिन्दी
Read more about the article श्री पार्वती माता चालीसा – हिन्दी
bhajan

श्री पार्वती माता चालीसा – हिन्दी

॥ दोहा ॥ जय गिरी तनये दक्षजे,शम्भु प्रिये गुणखानि। गणपति जननी पार्वती,अम्बे! शक्ति! भवानि॥ ॥ चौपाई ॥ ब्रह्मा भेद न…

Continue Readingश्री पार्वती माता चालीसा – हिन्दी