bhole da vivhaa

रलमिल सखियाँ आखन लगियां लाडा किथो आया,
इस लाडे ने दुनिया नालो वखरा भेष बनाया,
नि एह केहड़े पिंडो आया गोरजा दा लाडा,

लोक ता लाऊंदे अतर फुलेला,
नि एह बभूती मल लैआया गोरजा दा लाडा,
नि एह साधू बन के आया गोरजा दा लाडा,

लोका दी जन्झ विच सोहने बराती,
नि एह भुत चुडेला लाया गोरजा दा लाडा,

होर ता पाउंदे हार नोटा दे,
नि एह फर्नियर पा लाया गोरजा दा लाडा,
नि एह काला नाग ले आया गोरजा दा लाडा,

लोका दे लाडे जेंकी शेंकी,
एहने दाडा बड़ा वधाया गोरजा दा लाडा,
नि एह भुत चुडेला ले आया गोरजा दा लाडा,

लोकी ता आउंदे घोड़ी चढ़ के,
नि एह बैल ते चडके आया गोरजा दा लाडा,
एह भभूती मल ले आया गोरजा दा लाडा,

गोरा दे लाडे दी शान निराली,
जिहदी तिन लोक ते माया गोरजा दा लाडा,
नि एह रब धरती ते आया गोरजा दा लाडा,

वधाईयां गोरा तेनु वधाईयां जी,
वधाई तेरी माता नु पिता नु इस पंडित नु ,
सब आई होई संगत नु वधाईयां जी,
वधाईयां गोरा तेनु वधाईयां जी

Leave a Reply