bhole tera naam andhyaare me ujala hai tu dev nirala hai

भोले तेरा नाम भोले तेरा नाम,
अँध्यारे में उजाला है तू देव निराला है,

पागल नहीं हु मैं फिर भी दया तेरी बरस ती रात दिन,
दीदार को भोले प्यासी मेरी अँखियाँ तरस ती रात दिन,
एक तेरा दीदार अमृत का प्याला है,
तू देव निराला है,
भोले तेरा नाम…

तेरा रूप मंगल है तेरा नाम मंगल है,
तेरा ध्यान कल्याण है,
पापी को भी अपनाये हे भोले भंडारी,
तू करुनानिधान है,
शमा करे अपराध तू बड़े दिल वाला है तू देव निराला है,
भोले तेरा नाम…….

टूटे सितारों को तुम ही सजाते हो गंगाधर त्रिपुरारी,
बिगड़े मुकदर हो तुम ही बनाते हो मेरे महादेव हरी,
कष्टों में तुमने सूंदर लाल को संभाला है तू देव निराला है,
भोले तेरा नाम….

Leave a Reply